खेल जगत

वीरेंदर सहवाग का जीवन परिचय, Virender Sehwag Biography In Hindi

Virender Sehwag Biography In Hindi : आज हम बात करते है इंडियन टीम के ऐसे खिलाडी की जिसे दुनिया में हर कोई जानता है। शायद ही ऐसा कोई हो जो इसके नाम से वाकिफ न हो। जी हाँ हम आज बात करने जा रहे है क्रिकेट खेल के नामी बल्लेबाज वीरेंदर सहवाग की, जो अपनी बल्लेबाजी से ना केवल भारत में बल्कि विदेशों में भी मशहूर है। तो चलिए आज हम आपको बताते है वीरेंदर सहवाग जीवन से जुडी हुई कुछ ऐसी दिलचस्प बाते जो शायद आप नही जानते..

जीवन परिचय : Virender Sehwag Biography In Hindi

virender sehwag

वीरेंदर सहवाग का जन्म 20 अक्टूबर 1978 को हुआ था। ये एक मध्यम परिवार से थे। इनके पिता किशन सहवाग और माता कृष्णा सहवाग है। ये हरियाणा के मूल निवासी है परन्तु बाद में इनका परिवार दिल्ली चला गया था। इनका बचपन से ही इस खेल में रुझान था। इसलिए उनके पिता ने उनको खिलोने वाली छोटी बैट लाकर दे दी। स्कूल के बाद वे अपने दोस्तों के साथ क्रिकेट खेलने लगे और धीरे धीरे वे इस खेल में निपुण हो गये। सहवाग क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर को अपना मार्गदर्शक मानते हैं। चुनौतीपूर्ण परिस्थितिया भी उनके पक्के इरादों को विचलित नही कर पाई। कई लोग उन्हें नजफगढ़ का नबाब भी बोलते है।

कैरियर की शुरुआत :

virender sehwag

इन्होने अपना पहला अंतर्राष्ट्रीय एकदिवसीय मैच 1999 में खेला था। वर्ष 2001 में उन्होंने टेस्ट मैच में खेलना शुरु कर दिया था। साल 2008 में सहवाग टेस्ट मैच में सबसे तेज ट्रिपल सेंचुरी बनाने वाले बल्लेबाज बन गए। यह मैच उन्होंने चेन्नई में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेला था। अपने क्रिकेट करियर के शुरुवाती दौर में अपनी पहचान एक आक्रामक बल्लेबाज के रूप में बनायी और उस समय उनके कोच अमर नाथ शर्मा थे।

वर्ल्ड रिकॉर्ड :

virender sehwag

  • वीरेंदर सहवाग ने कई रिकॉर्ड अपने नाम किये है। इन्होने क्रिकेट टेस्ट मैच में भारतीय खिलाडियों में सबसे ज्यादा (319) रन बनाने का रिकॉर्ड बनाया।
  • अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट में भी अब तक का सबसे तेज तिहरा शतक (278 गेंदों में 300 रन) अपने नाम किया है।
  • क्रिकेट टेस्ट मैच में वे विश्व के उन चार खिलाडियों में से अक है जिन्होंने 2 बार 300 के आंकड़े को छुआ है।
  • वर्ष 2009 में उन्होंने केवल 60 गेंदों में ही शतक बना दिया था। ये भी इंडियन क्रिकेट टीम के लिए अक गर्व की बात है।
  • सर डोनाल्ड ब्रेडमैन और ब्रायन लारा के बाद सहवाग दुनिया के तीसरे ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में दो बार तिहरा शतक बनाने का कीर्तिमान स्थापित किया है।
  • 2005 में श्रीलंका के खिलाफ खेला गया सहवाग का यह ओवर भला कौन भूल सकता है जब उन्होंने ओवर की छह गेंदों पर 4,4,6,4,4,4 रन बनाये थे।
  • सहवाग ने टेस्ट क्रिकेट में 23 शतक बनाए हैं और टेस्ट के इतिहास में दो तिहरे शतक बनाने वाले दुनिया के चार बल्लेबाजों में से एक है।

अवार्ड्स :

virender sehwag with awards

  • अर्जुन अवार्ड : वीरेन्द्र सहवाग (Virendra Sehwag) को भारत सरकार ने 2002 में अर्जुन पुरस्कार देकर सम्मानित किया।
  • विस्डन लीडिंग क्रिकेटर इन द वर्ल्ड (2008, 2009)
  • ICC टेस्ट प्लेयर ऑफ द इयर 2010
  • पद्म श्री 2010

वीरेंदर सहवाग का जीवन परिचय Virender Sehwag Biography In Hindi

वीरेंदर सहवाग के बारे में कुछ अनसुनी बाते :

  • इन्होने अपने करियर की शुरआत क्रिकेट से नही बल्कि फार्मेसी से की थी।
  • वीरेंदर सहवाग सचिन तेंदुलकर को अपना आदर्श मानते है।
  • ये वनडे मैच में 15 शतक में से 10 बार मैन ऑफ दि मैच पुरूस्कार से समान्नित हो चुके है।
  • इन्होने वर्ष 2011 के विश्व कप मैचो में 5 बार पारी की शुरुआत चोकों से की थी।
  • ये टेस्ट मैच को भी T20 समझकर खेलते है।
  • वीरेंदर सहवाग पहले T20 के कप्तान थे।
  • वीरेंदर सहवाग का उपनाम “मुल्तान का सुल्तान” है।
  • सहवाग का सबसे पसंदीदा खाना उनकी माँ के हाथों से बनी हुई खीर है।
  • पाकिस्तान के मुल्तान में तिहरा शतक लगाने के लिए लोग उन्हें प्यार से मुल्तान का सुलतान कहते है।

यह भी पढ़े  : ये हैं भारत के टॉप 4 क्रिकेटर्स का सबसे पहला विज्ञापन, सचिन का लुक देख कर आप भी हैरत में पड़ जाएंगे

Related Articles

5 Comments

  1. Sir, we have gained a lot of knowledge from your site. It is very well written. Write some such post which we also get some knowledge. We have also made a website of ours. If there is something lacking in it like yours, then give us some advice. You will have a great cooperation. Thank you

  2. Sir i want that you always provide us new articles related criceter, we read always your intresting articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button