चाणक्य नीति

चाणक्य नीति : चाहे कोई अपना ही क्यों ना हो, भूलकर भी ना बताएँ ये बातें किसी से

चाणक्य नीति : हमारे पौराणिक इतिहास के अनुसार महान पंडित आचार्य चाणक्य ने अपने जीवन के कुछ महत्वपूर्ण अनुभवों को चाणक्य नीति के द्वारा सब के साथ शेयर किया है। बता दे कि चाणक्य नीति की मदद से इंसान जिंदगी जीने के बेहतर तरीके को समझ सकता है और जिंदगी के बारे में कई खास बातें जान सकता है। बहरहाल चाणक्य नीति के अनुसार अगर जिंदगी का संतुलन बनाएं रखना चाहते है तो ये चार बातें भूल कर भी किसी को न बताएं, क्यूकि ऐसा करने से नुक्सान केवल आपका ही होगा। तो चलिए अब आपको इन चार बातों के बारे में विस्तार से बताते है।

चाणक्य नीति के अनुसार

दूसरों के सामने दुःख और तकलीफ जाहिर करने से बचे :

गौरतलब है कि इस दुनिया में लोगों के जीवन में दुःख की कमी नहीं है। ऐसे में बहुत से लोग दुखी हो कर अपनी छोटी छोटी तकलीफें और मुश्किलें दूसरों के साथ शेयर करने लगते है। मगर चाणक्य के अनुसार ऐसा करना गलत है, क्यूकि किसी के पास इतना समय नहीं होता कि वह आपके दुःख को समझे। यहाँ तक कि कुछ लोग आपके मुँह पर तो आपसे हमदर्दी जताएंगे लेकिन आपके जाते ही आपका मजाक बनाने लगेंगे। इसलिए अगर हो सके तो अपने दुःख और तकलीफों को केवल उन्ही लोगों के साथ शेयर करे, जो आपके बेहद करीबी हो और जिन पर आपको पूरा विश्वास हो।

किसी से न कहे अपमान की बात :

बता दे कि आचार्य चाणक्य का मानना है कि अगर जीवन में कभी आपका अपमान हुआ हो तो यह बात किसी के साथ शेयर नहीं करनी चाहिए। इसकी वजह ये है कि दुनिया में ऐसे बहुत कम लोग होते है, जो हमारी कदर करते है या जिन्हे हमारी फिक्र होती है। यानि अगर आप अपने अपमान की बात किसी दूसरे को बताएंगे तो वे आपका और ज्यादा मजाक उड़ा सकते है।

चाणक्य नीति के अनुसार

घर की बातें लोगों को न बताएं :

अगर हम आचार्य चाणक्य द्वारा कही गई तीसरी बात के बारे में कहे तो अक्सर लोग अपने घर की छोटी छोटी बातें दूसरों के साथ बांटने लगते है, लेकिन यह करना गलत है। वो इसलिए क्यूकि कल को वही लोग आपकी इन बातों का फायदा उठा कर आपके घर में कलेश करवा सकते है। खास करके बात जब आपकी पत्नी या घर की किसी महिला की हो, तो उनकी बातें किसी के साथ शेयर नहीं करनी चाहिए। वैसे भी गृहिणी को घर की लक्ष्मी माना जाता है। तो ऐसे में आपको घर की लक्ष्मी या घर से जुडी कोई बात दूसरों को नहीं बतानी चाहिए।

बुरी आर्थिक स्थिति के बारे में किसी को न बताएं :

बता दे कि चाणक्य नीति के अनुसार किसी व्यक्ति को कभी भी अपनी आर्थिक स्थिति के बारे में दूसरों से बात नहीं करनी चाहिए। जी हां कई बार हमारे जीवन में ऐसा समय भी आता है, जब हम आर्थिक रूप से सही स्थिति में नहीं होते और आर्थिक रूप से टूटे हुए होते है। ऐसे में अगर आप अपनी आर्थिक स्थिति के बारे में दूसरों को बताएंगे तो वे केवल आपको ताने ही देंगे और आपका खूब मजाक बनाएंगे। इसके इलावा कोई व्यक्ति आपकी मदद के लिए आगे नहीं आएगा। इसलिए अगर हो सके तो अपनी आर्थिक स्थिति की चर्चा ज्यादा न करे।

चाणक्य नीति के अनुसार

बहरहाल ये चार बातें अगर आप खुद तक या अपने करीबी लोगों तक ही सीमित रखेंगे तभी आप बेहतर तरीके से जीवन जी पाएंगे।

दोस्तों आपको यह जानकारी कैसी लगी, इस बारे में हमें अपनी राय जरूर दीजियेगा।

यह भी पढ़ें: स्त्रियों के संबन्ध में तुलसीदास ने बताई थी 5 अत्यंत गोपनीय बातें,एक बार जरूर पढ़े

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button