टेलीविजन

निरमा वाशिंग पाउडर के विज्ञापन में दिखने वाली बच्ची थी ये, जानिए इस लड़की की पूरी कहानी

Truth Behind Nirma Washing Powder Girl : यूं तो नब्बे के दशक में आपने बहुत से विज्ञापन देखे होंगे, लेकिन उन दिनों के कुछ विज्ञापन ऐसे भी है जो काफी प्रसिद्ध हुए थे। जी हां आज हम ऐसे ही एक विज्ञापन के बारे में बात करने जा रहे है। बता दे कि हम यहां निरमा वाशिंग पाउडर के विज्ञापन की बात कर रहे है, जो नब्बे के दशक में काफी प्रचलित हुआ था और इस एड में एक छोटी सी लड़की भी दिखाई देती थी, जो शायद आपको याद ही होगी। गौरतलब है कि नब्बे के दशक में दिखने वाले इस विज्ञापन का जिंगल दूध सी सफेदी निरमा से आएं, रंगीन कपड़ा भी खिल खिल जाएं, सब की पसन्द निरमा आज भी लोगों को जरूर याद होगा।

Truth Behind Nirma Washing Powder Girl

निरमा वाशिंग पाउडर के विज्ञापन

निरमा वाशिंग पाउडर के विज्ञापन में दिखने वाली बच्ची थी ये :

वही इस एड में जो छोटी सी बच्ची दिखाई देती थी, आज हम आपको उसके बारे में बताना चाहते है। जी हां इस बच्ची की भी अपनी ही एक कहानी है, जिसके बारे में काफी कम लोग ही जानते होंगे। दरअसल इस लड़की का असली नाम निरुपमा है और इस लड़की के नाम पर ही वाशिंग पाउडर का नाम निरमा रखा गया था। यहां गौर करने वाली बात है कि निरमा वाशिंग पाउडर की शुरुआत 1969 में करसन भाई पटेल ने की थी, जो गुजरात के रहने वाले थे। बहरहाल इस एड में जो बच्ची दिखाई देती थी, वो उनकी ही बेटी थी, जिसे वह प्यार से निरमा कह कर बुलाते थे।

बेटी के नाम से करसन भाई पटेल ने की थी कंपनी की शुरुआत :

बता दे कि अपनी बेटी के नाम से ही करसन भाई ने निरमा कंपनी की शुरुआत की थी, जो अब इस दुनिया में नहीं रही। बता दे कि जब वह स्कूल में पढ़ती थी तो एक सड़क हादसे में उसकी मौत हो गई थी, जिसके बाद करसन भाई और उनका परिवार एकदम टूट गया था। अब अगर निरमा एड की बात करे तो करसन भाई अपनी बेटी से बेहद प्यार करते थे और वो चाहते थे कि उनकी बेटी दुनिया भर में बड़ा नाम कमाएं। मगर छोटी सी उम्र में ही उसके दुनिया से चले जाने के कारण करसन भाई काफी दुखी थे और अपनी बेटी के जाने का गम भुला नहीं पा रहे थे।

बेटी का नाम अमर करने के लिए किया ये काम :

निरमा वाशिंग पाउडर के विज्ञापन

ऐसे में करसन भाई पटेल ने तय किया कि वो अपनी बेटी का नाम हमेशा के लिए अमर कर देंगे और फिर उन्होंने निरमा कंपनी की शुरुआत की। जी हां इसके बाद डिटर्जेंट के पैकेट पर बेटी की तस्वीर छाप कर पटेल भाई ने अपनी बेटी को हमेशा के लिया अमर कर दिया। बता दे कि करसन भाई पटेल ने अपनी बेटी की मौत के बाद तीन साल तक एक अनोखे वाशिंग पाउडर का फॉर्मूला तैयार किया और फिर धीरे धीरे पाउडर की बिक्री करनी शुरू कर दी। हालांकि इस दौरान भी करसन भाई पटेल ने अपनी सरकारी नौकरी नहीं छोड़ी और लगातार मेहनत करते रहे।

यह भी पढ़ें : बियर की बोतल अक्सर हरी या भूरे रंग की ही होती है, क्या आप जानते हैं इसके पीछे का कारण

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button