दिलचस्प

ज्यादातर लोग नहीं जानते कैलकुलेटर में m+, m-, mr और mc का मतलब, क्या आपको पता है..?

कैलकुलेटर में m+, m-, mr और mc का मतलब : वैसे तो बचपन में आप ने कई बार कैलकुलेटर का इस्तेमाल किया होगा और कुछ लोग तो ऐसे भी है जो वर्तमान समय में भी कैलकुलेटर का इस्तेमाल करना पसंद करते है। मगर फिर भी आप कैलकुलेटर में इन शब्दों का मतलब नहीं जानते होंगे। जी हां स्कूल में मैथ के फार्मूले हल करने के लिए, इंटरमीडिएट और इंजीनियरिंग में साइंटिफिक कैलकुलेटर की मदद से बड़े बड़े सवालों का हल निकालने के लिए, घर के पैसों का हिसाब किताब करने के लिए और अकाउंट में बचे पैसों का जोड़ करने के लिए आपने कई बार कैलकुलेटर का इस्तेमाल किया होगा, जब कि वर्तमान समय में ये सभी काम मोबाइल की मदद से आसानी से हो जाते है।

कैलकुलेटर में m+, m-, mr और mc का मतलब

कैलकुलेटर में इन शब्दों का मतलब क्या होता है :

वही अगर हम कैलकुलेटर में लगे बटन की बात करे तो कैलकुलेटर में m+, m-,mr और mc आदि कई शब्द लिखे होते है और इन चारों शब्दों का मतलब क्या है, इसके बारे में यकीनन आपने कभी जानने की कोशिश नहीं की होगी। बहरहाल आज हम आपको इन शब्दों के बारे में विस्तार से बताना चाहते है। यहां गौर करने वाली बात ये है कि अगर कैलकुलेटर में ये चार बटन है तो इनका जरूर कोई न कोई महत्व तो जरूर होगा।

M+ बटन का मतलब क्या होता :

ऐसे में सबसे पहले अगर हम m+ बटन की बात करे तो इसका पूरा नाम मेमोरी प्लस है और इसका काम कैलकुलेशन को मेमोरी में जोड़ते जाना है। यानि दो अलग अलग अंको को मल्टीप्लाई करके उनका कंबाइंड रिजल्ट निकालना है। जैसे कि अगर आपके पास दस रूपये के पांच नोट है और बीस रुपए के पांच नोट है। तो ऐसे में आपके पास टोटल कितने रुपए होंगे। इसका परिणाम जानने के लिए पहले आपको दस को पांच से मल्टीप्लाई करना होगा और फिर बीस को पांच से तथा इसके बाद दोनों के रिजल्ट को एक साथ एड करके परिणाम निकालना होगा।

Mr बटन का मतलब होता है ये :

अब अगर हम mr बटन की बात करे तो इसका मतलब मेमोरी रिकॉल होता है जो रिजल्ट को जानने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

M- बटन का इस्तेमाल होता है यहां :

बता दे कि m- बटन को मेमोरी माइनस कहते है और इसका काम कैलकुलेशन को मेमोरी से माइनस करना है, यानि यह m+ के विपरीत काम करता है। जी हां यह दो अलग अलग नंबर्स को मल्टीप्लाई करके उसे कैलकुलेशन से घटाता है। अगर हम सिंपल भाषा में समझाएं तो मान लीजिए आपके पास दस रूपये के पांच नोट है और बीस रुपए के पांच नोट है। तो ऐसे में आप दोनों को मल्टीप्लाई करके माइनस कर दे और उचित परिणाम हासिल कर ले। बहरहाल सबसे पहले एक सौ बीस को पांच से मल्टीप्लाई कर दे और फिर m- का बटन दबा दे और इसके बाद दस को पांच से मल्टीप्लाई करे। इसके बाद नतीजा जानने के लिए m- बटन दबा दे तो आपको सही परिणाम मिल जाएगा।

Mc बटन का मतलब होता है ये :

गौरतलब है कि कैलकुलेटर में mc का बटन जरूर दबाएं क्योंकि अगर आप ऐसा नहीं करेंगे तो अगली कैलकुलेशन का नतीजा गलत हो सकता है। जी हां mc को मेमोरी क्लियर भी कहते है और इस बटन को दबाने से सारी कैलकुलेशन क्लियर हो जाती है। बहरहाल अब तो आप समझ गए होंगे कि कैलकुलेटर में m+, m-, mr और mc का मतलब क्या होता है और ये बटन कैलकुलेटर में क्यों होते है। दोस्तों हम उम्मीद करते है कि आपको ये जानकारी जरूर पसंद आई होगी।

यह भी पढ़ें : बियर की बोतल अक्सर हरी या भूरे रंग की ही होती है, क्या आप जानते हैं इसके पीछे का कारण

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button