स्वास्थ्य

पुरुषों की शारीरिक समस्याओं के लिए सफेद मूसली किसी वरदान से काम नहीं है, जानिए पतंजलि सफेद मूसली के फायदे और खाने की विधि

Patanjali Safed Musli Ke Fayde In Hindi : अगर आप लोग सफेद मूसली के बारे में नहीं जानते तो हम आपको बता दे कि इसे शक्तिवर्द्धक जड़ी बूटी माना जाता है और इसलिए इसका इस्तेमाल आयुर्वेदिक औषधि के रूप में भी किया जाता है। जी हां सफेद मूसली की जड़ और इसके बीज खास तौर पर औषधि के रूप में बेहद फायदेमंद होते है और इसकी जड़ों में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम, पोटेशियम तथा मैग्नीशियम आदि सब अधिक मात्रा में पाएं जाते है। इसके इलावा पतंजलि सफेद मूसली के फायदे और इसे खाने की विधि भी काफी अलग है, जिसके बारे में हम आपको विस्तार से बताना चाहते है।

Patanjali Safed Musli Ke Fayde In Hindi

पतंजलि सफेद मूसली के फायदे : 

गौरतलब है कि मूसली के फूल सफेद रंग के होते है और इसकी जड़ मोटी तथा गुच्छों में होती है। इसके साथ ही इसका कंद मीठा और कोमोतेजक तथा कफ को कम करने में मदद करता है। बहरहाल यह न केवल स्तनों में दूध बढ़ाने में मदद करता है, बल्कि मोटापा या ओबेसिटी, अर्श, सांसों के रोग तथा एनीमिया की समस्या को भी दूर करने में सहायक है।

बता दे कि सफेद मूसली को दुनिया भर में कई नामों से जाना जाता है। जैसे कि संस्कृत में धवलमूली, हिंदी में श्वेत मूसली, उर्दू में मूसली सफेद, कन्नड़ और तेलुगु में श्वेत मूसली, गुजराती में सफेद मूसली, तमिल में तनीरवीथंग, मराठी में कुलई, मलयालम में सहेदेवेली, इंग्लिश में इंडियन स्पाइडरी प्लांट, अरेबिक में शुकाकुले हिंदी आदि कई नामों से जाना जाता है। अब अगर हम सफेद मूसली के फायदों की बात करे तो वो कुछ इस प्रकार है।

कई बीमारियों में लाभकारी है सफेद मूसली :

ब्रेस्ट मिल्क को बढ़ाने में उपयोगी : बता दे कि स्तनों में दूध की मात्रा बढ़ाने के लिए इसका इस्तेमाल करना चाहिए और इसके लिए दो से चार ग्राम सफेद मूसली के चूर्ण में बराबर भाग में मिश्री मिला ले। इसका सेवन दूध के साथ करे, इससे स्तनों के दूध में वृद्धि होती है।

दस्त को रोकने मददगार : इस समस्या से राहत पाने के लिए दो से चार ग्राम सफेद मूसली की जड़ के चूर्ण को दूध में मिला ले और इसका प्रयोग करने से दस्त, पेचिश तथा भूख की कमी आदि जैसी समस्याओं से राहत मिल सकती है।

पेट की बीमारी से दे राहत : बता दे कि अगर आपको पेट से संबंधित कोई समस्या है तो इसके लिए सफेद मूसली के कंद के चूर्ण का सेवन करे और एक से दो ग्राम कंद के चूर्ण का सेवन करने से पेट संबंधित समस्याएं दूर होती है।

ऐसे करे सफेद मूसली का इस्तेमाल :

मूत्र संबंधी समस्या में राहत : बता दे कि अगर आपको मूत्र करते समय दर्द होता है तो इसके लिए मूसली के जड़ के चूर्ण की एक या दो ग्राम मात्रा का सेवन करे, इससे आपको राहत मिलेगी।

सुजाक रोग में फायदेमंद : बता दे कि सुजाक एक तरह का बैक्टीरियल इन्फेक्शन से संबंधित रोग है, जो यौन सम्पर्क के कारण होता है। अगर इसका सही समय पर इलाज न किया जाएं तो नपुंसक होने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए इस समस्या को दूर करने के लिए सफेद मूसली के चूर्ण का सेवन जरूर करे।

ल्यूकोरिया की समस्या के मददगार : बता दे कि यह महिलाओं में होने वाली बीमारी है, जिसका स्वास्थ्य पर काफी बुरा असर पड़ता है। इसे ठीक करने के लिए एक या दो ग्राम सफेद मूसली के कंद चूर्ण का सेवन करे।

शुक्राणु दोष को कम करने में सहायक : बता दे कि कई पुरुषों में शुक्राणु दोष की समस्या होती है और ऐसे में आपको दो या चार ग्राम मूसली के चूर्ण में समान मात्रा में शर्करा डाल कर इसका गाय के दूध के साथ सेवन करना चाहिए। इसके इलावा एक से दो ग्राम जड़ के चूर्ण में समान मात्रा में मिश्री मिला कर इसका सेवन करने से कमज़ोरी दूर होती है और वीर्य दोष भी ठीक होता है।

बेहद लाभकारी आयुर्वेदिक औषधि है सफेद मूसली :

गठिया के दर्द में लाभकारी : गौरतलब है कि पतंजलि के अनुसार सफेद मूसली के कंद को पीस कर लगाने या सफेद मूसली के चूर्ण का सेवन करने से गठिया के दर्द से राहत मिलती है।

कामेच्छा को बढ़ाने में लाभकारी : बता दे कि कई बार तनाव के कारण व्यक्ति के अंदर कामेच्छा कम हो जाती है, तो ऐसे में सफेद मूसली के साथ समान मात्रा में गुडुची सत्त, कौंञ्च बीज, गोखरू, सेमलकंद, आंवला तथा शर्करा ले। फिर इसका चूर्ण बना लें और इसकी दो चार ग्राम की मात्रा दूध तथा घी में मिला कर पीने से कामेच्छा में वृद्धि होती है।

यहां गौर करने वाली बात ये है कि अगर आप किसी खास बीमारी के इलाज के लिए सफेद मूसली का उपयोग कर रहे है तो आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह जरूर ले लीजिए। गौरतलब है कि यह पश्चिमी हिमालय, पंजाब और उत्तराखंड में लगभग सोलह सौ मीटर की ऊंचाई तक मिलता है। जब कि मध्य भारत में इस की खेती की जाती है। जी हां दो तरह के पौधों का प्रयोग सफेदी मूसली के लिए किया जाता है, जो बेहद गुणकारी होते है। बहरहाल हमें उम्मीद है कि पतंजलि सफेद मूसली के फायदे के बारे में जान कर आप इसका इस्तेमाल जरूर करेंगे।

यह भी पढ़ें : बालों की अनेक समस्याओं के लिए रामबाण उपाय है दिव्य केश तेल, जानिए इसके फायदे और इस्तेमाल करने का सही तरीका

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button