अध्यात्म

क्या घर में रखी भगवान की मूर्ति का अचानक टूटना होता है अशुभ, जानिए क्या कहता है शास्त्र

अगर हम भारतीय घरों की बात करे तो इसमें कोई शक नहीं कि हमारे यहां हर घर में भगवान की मूर्ति जरूर होती है और ऐसे में भक्तजन उन मूर्तियों के सामने पूजन करके अपनी भक्ति प्रकट करते है। मगर क्या आप जानते है कि अगर घर में रखी भगवान की मूर्ति टूट जाएं तो ये अशुभ होता है या नहीं। चलिए आपको बताते है कि इस बारे में शास्त्रों का क्या कहना है।

क्या घर में रखी भगवान की मूर्ति का अचानक टूटना होता है अशुभ :

अगर शास्त्रों की माने तो भगवान की कुछ खास तरह की मूर्तियां घर और मंदिर में स्थापित की जाती है। ऐसे में कई बार जल्दबाजी में या बिना किसी वजह के मूर्तियां खंडित हो जाती है, लेकिन इसके बावजूद भी लोग उन मूर्तियों को घर से बाहर नहीं निकाल पाते, क्योंकि उन मूर्तियों के साथ लोगों की श्रद्धा जुड़ी होती है। हालांकि घर में रखी मूर्ति का इस तरह से टूटना कई बातों की तरफ इशारा करता है और आज हम आपको इसी बारे में विस्तार से बताना चाहते है।

बता दे कि टूटी हुई मूर्तियां नकारात्मक ऊर्जा को अपनी तरफ आकर्षित करती है और लोग अक्सर टूटी हुई मूर्तियों को घर के मंदिर में ही छोड़ देते है, जिससे घर की ऊर्जा पर बुरा प्रभाव पड़ता है। जी हां खंडित मूर्तियों को घर के रखना अशुभ माना जाता है। इससे घर में लड़ाई झगडे होने की संभावना बढ़ जाती है। गौरतलब है कि आपने कई बार देखा होगा कि अचानक भगवान की मूर्ति हाथ से छूट जाती है और इस वजह से वह टूट जाती है। ऐसी मूर्तियों के लिए खंडित शब्द का इस्तेमाल किया जाता है।

खंडित मूर्तियां देती है कई तरह के संकेत :

ऐसा माना जाता है कि इस तरह की खंडित मूर्तियां घर में होने वाली अनहोनी घटना को अपने अंदर समाहित करती है और इससे होने वाली अशुभता का फल कम हो जाता है। जी हां वास्तु शास्त्र के अनुसार आपको केवल मंदिर में टूटी हुई मूर्तियों का उपयोग करने से बचना चाहिए, बल्कि खंडित रोशनी के उपयोग से भी बचना चाहिए। वो इसलिए क्योंकि यह घर को खराब कर सकती है।

बता दे कि ऐसा कहा जाता है कि अगर मूर्ति अपने आप टूट जाएं तो इसका मतलब ये है कि एक त्रासदी आप पर हमला करने वाली थी, लेकिन वह टल गई या मूर्ति द्वारा आपदा के प्रभाव को हटा दिया गया। जी हां भले ही मूर्ति का टूटना अच्छा संकेत न हो, लेकिन यह आपके लिए अच्छा संकेत है। यानि अगर आपके घर में रखी कोई मूर्ति टूट जाएं तो घबराने की बजाय उसे सही स्थान पर रख दे और खंडित मूर्ति की पूजा करने से बचे।

बता दे कि शास्त्रों के अनुसार पूजा करते समय आपको अपना पूरा ध्यान भगवान की पूजा पर लगाना चाहिए। मगर यदि आप पूजा के स्थान पर खंडित मूर्ति रखते है, तो इससे आपके ध्यान में विघ्न पैदा होता है। जी हां पूजा करते समय भक्तों के मन में देवता की स्पष्ट तस्वीर होनी चाहिए और खंडित मूर्ति की पूजा करना आपके लिए अशुभ हो सकता है। इसके साथ ही खंडित मूर्ति से भक्त का मन विचलित होता रहता है, जब कि अशांत प्रार्थना का कोई सकारात्मक परिणाम नहीं मिलता।

खंडित मूर्तियों को श्रद्धापूर्वक कर दे विसर्जित या सम्मान सहित दे दीजिए अपने गुरु को :

गौरतलब है कि वास्तु शास्त्र के अनुसार वे टूटी हुई मूर्तियां जिन पर प्राण प्रतिष्ठा की गई हो, उन्हें जल में नहीं डालना चाहिए। जी हां ऐसी मूर्तियों को गुरु या मंदिर के पंडित को सर्वोत्तम उपयोग के लिए सौंप दिया जाना चाहिए। वही खंडित मूर्ति को किसी चौराहे या पेड़ के नीचे लावारिस रखने की बजाय ध्यान और सम्मान के साथ विसर्जित किया जाना चाहिए।

हालांकि अगर मूर्ति एक फोटो फ्रेम में लगी हो और वह टूट जाएं तो उसे फ्रेम और कांच से हटा देना चाहिए तथा फोटो को विसर्जित कर देना चाहिए। जी हां कभी भी टूटे फ्रेम की तस्वीर घर में न लगाएं। अगर हम सीधे शब्दों में कहे तो घर ने रखी भगवान की मूर्ति का खंडित होना अशुभ माना जाता है, इसलिए उन्हें श्रद्धापूर्वक घर से बाहर कर देना चाहिए। दोस्तों आपको यह जानकारी कैसी लगी, इस बारे में हमें अपनी राय जरूर दीजियेगा।

यह भी पढ़े : ये संकेत दिखें तो तुरंत समझ जाएं आपके घर में है वास्तुदोष, तुरन्त प्रभाव से करें ये उपाय

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button