दिलचस्प

इसलिए लता मंगेशकर ने कभी नहीं की शादी, जानिए सुरों की मल्लिका लता जी से जुडी कुछ दिलचस्प बातें

कहते है कि बॉलीवुड में अगर कोयल से भी ज्यादा खूबसूरत किसी की आवाज है, तो वो लता मंगेशकर जी की है, जो पिछले सात दशकों से भारतीय सिनेमा का हिस्सा रही है। जी हां लता मंगेशकर ने पुराने समय के संगीतकारों से लेकर नए जमाने के गायकों के साथ सुर से सुर मिला कर बॉलीवुड को कई बेहतरीन गाने दिए है। हालांकि इस सवाल का जवाब आज भी हर कोई जानना चाहता है कि आखिर लता जी ने शादी क्यों नहीं की और ऐसे में इस सवाल के जवाब के साथ ही हम आपको सुरों की मल्लिका लता जी से जुडी कुछ दिलचस्प बातें बताना चाहते है।

सुरों की मल्लिका लता

लता मंगेशकर से जुडी कुछ दिलचस्प बातें :

दरअसल हाल ही में लता जी ने अपना 91 वें जन्म दिन मनाया था और इस खास मौके पर बॉलीवुड की बड़ी बड़ी हस्तियों ने उन्हें शुभकामनाएं दी थी। बहरहाल लता मंगेशकर एक मध्यवर्गीय मराठी परिवार से है और उनका जन्म मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में हुआ था। आपको जान कर हैरानी होगी कि लता मंगेशकर जी के पिता को उनका फिल्मों में गाना पसंद नहीं था और इसी वजह से उनके पिता ने लता जी का पहला गाना फिल्म से हटवा दिया था। बता दे कि लता जी की पहली कमाई पच्चीस रूपये थी, जो उन्हें एक कार्यक्रम में स्टेज पर गाने के दौरान मिली थी।

आखिर क्यों लता मंगेशकर ने जीवन भर नहीं की शादी :

गौरतलब है कि बचपन में लता जी को कई मुश्किलों का सामना भी करना पड़ा था, क्यूकि जब वह महज तेरह साल की थी, तब दिल का दौरा पड़ने के कारण उनके पिता की मौत हो गई थी। एक इंटरव्यू के दौरान लता जी ने बताया था कि पिता के निधन के बाद घर की पूरी जिम्मेदारी उन पर आ गई थी। यही वजह है कि उनके मन में कई बार शादी करने का ख्याल तो आया, लेकिन परिवार के बारे में सोच कर उन्होंने अपने कदम पीछे हटा लिए। जी हां लता मंगेशकर ने ये भी कहा था कि वो पहले अपने छोटे भाई बहनों को सेटल कर देना चाहती थी। मगर जैसे जैसे वक्त निकलता गया, वैसे वैसे उनकी शादी करने की इच्छा भी अधूरी रह गई।

सुरों की मल्लिका लता

मोहम्मद रफी के साथ हुआ था ये विवाद :

वैसे ये बात काफी कम लोग जानते है कि लता जी ने रफी साहब के साथ काफी सारे गाने तो जरूर गाएं है, लेकिन एक समय ऐसा भी आया था, जब उन्होंने रफ़ी जी से बातचीत करना बंद कर दिया था। वो इसलिए क्यूकि लता जी गानों पर रॉयल्टी की मांग कर रही थी, लेकिन मोहम्मद रफ़ी ने कभी भी रॉयल्टी की बात नहीं की थी। ऐसे में दोनों के बीच वाद विवाद इतना बढ़ गया कि दोनों ने एक दूसरे से बात करना बंद कर दिया और दोनों ने एक दूसरे के साथ गीत तक गाने से मना कर दिया। फिर भी कई सालों बाद बॉलीवुड एक्ट्रेस नरगिस के कहने पर दोनों ने एक कार्यक्रम में दिल पुकारे गीत गाया था।

लता मंगेशकर का असली नाम है ये :

इसके इलावा ये बात भी काफी कम लोग जानते होंगे कि लता जी का असली नाम हेमा हरिदकर है और उन्हें रेडियो सुनने का काफी शौंक था। जी हां अठारह साल की उम्र में उन्होंने अपना पहला रेडियो खरीदा था और रेडियो को ऑन करते ही उन्हें के एल सहगल के निधन की खबर मिली। जिसके कारण उन्होंने वो रेडियो दुकानदार को वापिस कर दिया था और आपको जान कर हैरानी होगी कि तीखा खाने की शौकीन लता जी एक दिन में करीब बारह मिर्च खा लेती है।

सुरों की मल्लिका लता

इस वजह से सिर्फ एक दिन के लिए स्कूल गई थी लता मंगेशकर :

दरअसल लता जी का मानना है कि तीखा खाने से गले की मिठास बढ़ती है और अगर हम लता जी के बचपन की बात करे तो वह महज एक दिन के लिए ही स्कूल जा पाई थी, क्यूकि उनके पास अपने और अपनी छोटी बहन आशा भोंसले दोनों की फीस देने के पैसे नहीं थे। ऐसी स्थिति में उन्होंने अपनी शुरुआती शिक्षा अपने घर के नौकर से ही हासिल की। हालांकि बाद में उन्हें न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी के साथ साथ छह विश्वविद्यालयों से मानक उपाधि के साथ भी नवाजा गया। बहरहाल सुरों की मल्लिका लता मंगेशकर जी बॉलीवुड जगत की वो महिला है जिन्हें न केवल भारत रत्न से बल्कि दादा साहेब फाल्के अवार्ड से भी नवाजा गया।

यह भी पढ़ें : आठ मिनट में गाना लिख देते थे आनंद बक्शी, लगभग पुराने गाने है इनकी ही देन है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button