घरेलू-नुस्खेस्वास्थ्य

हेपेटाइटिस क्या है जानिए कारण, लक्षण और आसान घरेलू उपचार

Indian News Room Health Desk : Hepatitis in Hindi

हेपेटाइटिस क्या है What is Hepatitis in Hindi :

हेपेटाइटिस लिवर में होने वाला एक गंभीर रोग है। हेपाटाइटिस के कारण हमारे लिवर में सूजन आ जाती है और इन्फेक्शन भी हो सकता है। यह एक वायरल डिजीज होती है। कई बार हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है। जिसके कारण हमे लिवर डिजीज होने का खतरा बढ़ जाता है। कई बार लोग ज्यादा दवाइयों का इस्तेमाल या ज्यादा अल्कोहल और फ़ास्ट फूड का इस्तेमाल कर लेते है जिसके कारन हमे हेपेटाइटिस हो सकता है हालाँकि यह कोई वैज्ञानिक कारन नहीं है हम सिर्फ बात का अनुमान ही लगा सकते है लेकिन गर्मी और बारिश के मौषम में इस तरह की बीमारियों का खतरा अक्सर बढ़ जाता है।

Hepatitis in Hindi

हेपेटाइटिस के कारण Hepatitis Causes in Hindi :

आपने हेपेटाइटिस ए और ई के बारे में अक्सर सुना होगा ये दोनों दूषित पानी और भोजन के सेवन से होती है। लेकिन हेपेटाइटिस बी, सी, और डी के मामले मैं ऐसा नहीं है। ये सामान्य तौर पर संक्रमित व्‍यक्ति के मूत्र, खून अथवा अन्‍य द्रव्‍य पदार्थों के सीधे संपर्क में आने से होता है। अगर कोई व्यक्ति हेपेटाइटिस बी से ग्रषित है और उसका खून अगर किसी दूसरे व्यक्ति के अंदर चला जाता है तो उसको भी होने के चांस बढ़ जाते है। हेपेटाइटिस बी मां से होने वाले बच्‍चे में भी खून के द्वारा आसानी से पहुँच सकता है। अगर कोई वयक्ति लम्बे समय से शराब का सेवन करता आ रहा है तो उसको भी हेपेटाइटिस होने चांस ज्यादा रहता है क्योंकि उसका लिवर कमजोर हो जाता है और आसानी से उसको इन्फेक्शन हो सकता है।

हेपेटाइटिस के लक्षण Hepatitis Symptoms in Hindi :

जैसे जैसे हेपेटाइटिस बढता है तो पीलिया का रूप ले लेता है। जब लिवर बहुत ही जयादा खराब हो जाता है तो लास्ट में लिवर सिरोसिस और फिर लिवर कैंसर हो सकता है। इसलिए आपको कुछ इस तरह के लक्षण दिखयी देने लगे तो तुरंत डॉ से संपर्क करे।
थकान होना, पेशाब गहरे पी ले रंग का आना, पेशाब और उलटी में खून आना, बुखार होना, भूख न लगना ये सब लिवर की बीमारी के संकेत हो सकते है।

हेपेटाइटिस के प्रकार Types of Hepatitis in Hindi :

हेपेटाइटिस के पांच मुख्‍य वायरस होते हैं। ए, बी, सी, डी और ई। ये सभी पांच वायरस बहुत खतरनाक होते है। इसलिए आपको जरा सी भी परेशानी का सामना करना पड़े तो तुरंत डॉ से संपर्क करे।

हेपेटाइटिस ए Hepatitis A in Hindi :

हेपेटाइटिस ए सामान्यत दूषित जल पीने से होता है। यह बीमारी दूषित खाने व पानी के कारण होती है। जब हम गंदे पानी या भोजन का सेवन करते हैं तो हमे इस बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है। हालाँकि यह बीमारी इतनी ज्यादा खतरनाक नहीं होती। अगर हम अपने खान पा बदलाव करे तो हम ठीक हो सकते है। गर्भवती महिलाओं को इस टाइम पर ज्यादा ध्यान देने की जरुरत होती है क्यूंकि अगर उनको संक्रमण हुआ तो उनके होने वाले बच्चे को भी इसका बुरा असर पड़ सकता है इसलिए इस बात का विशेष ध्यान रखे।

हेपेटाइटिस बी Hepatitis B in Hindi :

Hepatitis in Hindi

आजकल शराब को लोग फैशन के रूप में लेने लगे है।आपको बता दे की हेपेटाइटिस बी की सबसे बड़ी वजह शराब ही होती है। शराब के कारण हमारा लिवर खराब हो जाता है। और हमे लिवर सम्बंधित बीमारिया घेर लेती है। हेपेटाइटिस-बी में शुरुआत में तो भूख काम लगना, पेशाब गहरे पिले रंग का आना, थकान होना, पेट में दर्द इस तरह के लक्षण दिखयी देते है। लिवर की बीमारी पर शुरुआत में ध्यान नहीं देने पर वे क्रोनिक भी हो सकती है। इसलिए हेपेटाइटिस-बी के लिए अपने और अपने बच्चे को टीकाकरण जरूर करवाए। नवजात बच्चो को ही ये टीका लगना शुरू हो जाता है और इसकी अलग अलग डोज समय के अनुसार दी जाती है जो बच्चे को हेपेटाइटिस-बी से बचाती है।

हेपेटाइटिस सी Hepatitis C in Hindi :

हेपेटाइटिस सी भी एक गंभीर बीमारी होती है। जिसे हम साइलेंट किलर भी बोल सकते है। शुरुआत मैं इस बीमारी के कुछ ख़ास लक्षण दिखयी ही देते पर आगे चलकर यह विकराल रूप धारण कर सकती है। जब तक यह सारे शरीर में फैल चूका होता है। टैटू छपवाने से, संक्रमित खून से, किसी दूसरे व्यक्ति का रेजर इस्तेमाल से हेपेटाइटिस सी होने का खतरा जयादा रहता है। अगर यह बीमाई आखऋ चरण पर है तो लिवर सिरोसिस भी हो सकता है हेपेटाइटिस के अन्य रूपों की तरह हेपेटाइटिस सी भी लीवर में सूजन पैदा करता है। हेपेटाइटिस सी का वायरस संक्रमित खून का आदान प्रदान करने से फैलता है।

हेपेटाइटिस डी Hepatitis D in Hindi :

हेपेटाइटिस डी जयादा गंभीर नहीं है अगर हम समय पर इसका ध्यान करे तो। लेकिन अगर कोई व्यक्ति हेपेटाइटिस बी या सी से ग्रषित है तो ये बीमारी उसको जयादा प्रभावित करती है। इस स्थिति मैं भी रोगी के लिवर को हानि पहुचंती है। और उसको लिवर डैमेज होने का खतरा रहता है। इस रोग में भी अन्य की तरह वही लक्षण दिखाई देते है। जैसे भूख न लगना, पीले रंग का पेशाब आना, कमजोर महसूस होना, क्योंकि ये सभी बीमारी सीधा हमारे लिवर पर हमला करती है।

हेपेटाइटिस ई Hepatitis E in Hindi :

हेपेटाइटिस ई सामान्य तौर पर गंदे जल के सेवन से होता है। या गन्दा भोजन करने के सेवन से भी हो सकता है। गन्दा जल ही इस महामारी को फैलाने का एक सबसे बड़ा कारण है। यह संक्रामक रोग बड़ी तेजी से फैलता है और बड़ी तेजी से एक बड़े समूह को अपनी चपेट में ले सकता है। बंदर, सूअर, गाय, भेड़, बकरी और चूहे इस संक्रामक रोग के प्रति काफी संवेदनशील होते हैं और इसके वायरस को तेजी से फैला सकते है।

हेपेटाइटिस की जांच Diagnosis Of Hepatitis In Hindi : 

अगर आपको हेपेटाइटिस के लक्षण दिखाई देते है तो बिना देरी किए तुरत डॉ से संपर्क करे। हेपेटाइटिस की जांच के लिए आपको सबसे पहले अपने लिवर की जांच करानी होगी। इसके लिए आपको LFT (Liver Function Test) कराना जरुरी है। अगर LFT मैं कुछ गड़बड़ आती है तो डॉ आपको खून की अन्य जाँच करवाने के लिए कह सकते है। इसके अलावा पेट के अल्ट्रासाउंड और लिवर बायोप्सी के द्वारा भी इसका पता लगाया जा सकता है।

हेपेटाइटिस का इलाज Treatment Of Hepatitis In Hindi :

Hepatitis in Hindi

जैसा की आपको पता है की हेपेटाइटिस में हमारा लिवर बहुत ही कमजोर जाता है। तो इसके लिए आप डॉ की सलाह के अनुसार लिवर टॉनिक ले सकते है। शुरुआत में कोई भी बीमारी इतनी ज्यादा खतनाक नहीं होती जितना की वो लम्बे समय तक रहने पर होती है। इसी तरह शुरूआती लक्षणों को पहचानकर तुरंत डॉ से संपर्क करे। और उनके बताए अनुसार दवाओं का सेवन करे। सिर्फ हेपेटाइटिस ए और बी से बचाव के लिए टीके (वैक्सीन्स) उपलब्ध है। इसके अलावा हेपाटाइटिस सी, डी और ई होने पर डॉ आपको हॉस्पिटल में भर्ती होने की सलाह देते है जोकि आपके लिए बेहतर सिद्ध होती है। इसलिए जरा सी भी दिक्कत महसूस होने पर तुरंत डॉ से संपर्क कर अपना इलाज शुरू करवाए।

यह भी पढ़े : बेबी की देखभाल के दौरान भूलकर भी न करे ये गलतियां, जानिए देखभाल के आसान टिप्स

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button