दिलचस्प

रत्न टाटा को भी हुआ था किसी से सच्चा प्यार, जब इन्होंने खुद बताई अपने बिछड़े हुए प्यार की कहानी

बता दे कि दुनिया के सबसे अमीर लोगों में गिने जाने वाले भारत के सबसे बड़े उद्योगपति रतन टाटा जी ने फेसबुक पेज के द्वारा अपने अधूरे प्रेम की कहानी सब के साथ शेयर की थी और आज हम आपको उनकी प्रेम कहानी से रूबरू करवाना चाहते है। जी हां ये शायद रतन टाटा के अधूरे प्रेम की कहानी का ही नतीजा है, जो वो आज इस मुकाम पर है। फिलहाल तो रतन टाटा ब्यासी साल के हो चुके है, लेकिन इस उम्र में भी उनका काम करने का जोश कम नहीं हुआ है। तो चलिए अब आपको रतन टाटा जी के बारे में कुछ दिलचस्प बातें बताते है।

अधूरे प्रेम की कहानी

रतन टाटा की अधूरी प्रेम कहानी :

सबसे पहले अगर हम रतन टाटा जी के बचपन की बात करे तो उनका बचपन काफी खुशहाल था, लेकिन माता पिता के तलाक का तलाक हो जाने के कारण उनके जीवन में थोड़ी सी निराशा जरूर आ गई थी। यही वजह है कि उनके भाई को काफी परेशानियों का भी सामना करना पड़ा था। दरसअल जब रतन टाटा जी दस साल के थे, तभी उनके माता पिता का तलाक हो गया था और जब ये कहानी उन्होंने सोशल मीडिया पर शेयर की तब ये सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई। इसके साथ ही रतन टाटा ने लिखा था कि उन्हें आज भी याद है कि किस तरह से उनकी दादी दूसरे विश्वयुद्ध के बाद उन्हें और उनके भाई को गर्मियों की छुट्टियों के लिए लंदन लेकर गई थी। तब उनकी दादी ही उन्हें बताती थी कि क्या सही है और क्या गलत है।

अधूरे प्रेम की कहानी

गौरतलब है कि रतन टाटा जी ने अपने पिता के साथ हुए मतभेद के बारे में भी बताया और कहा कि वह वायलिन सीखना चाहते थे, लेकिन उनके पिता जी उन्हें पियानो सीखने के लिए ही कहते थे।  यहाँ तक कि वे पढ़ाई के लिए अमेरिका जाना चाहते थे, लेकिन उनके पिता उन्हें लंदन भेजना चाहते थे।  केवल इतना ही नहीं इसके इलावा रतन टाटा जी आर्किटेक्ट बनना चाहते थे, लेकिन उनके पिता उन्हें इंजीनियर बनाना चाहते थे। हालांकि अपनी दादी की मदद से वह अपनी पसंद की जगह अमेरिका की कॉर्नेल यूनिवर्सिटी में पढ़ने के लिए गए।

इस वजह से अधूरा रह गया रतन टाटा का पहला प्यार :

बता दे कि अपनी जवानी के इन्हीं दिनों में रतन टाटा जी प्यार में पड़ गए थे और जिससे रतन टाटा प्यार करते थे वो लड़की लॉस एंजेलिस की थी ! यहाँ तक कि रतन टाटा उस लड़की से शादी भी करने वाले थे, लेकिन दादी की तबियत खराब होने की वजह से उन्हें भारत आना पड़ा। यहाँ गौर करने वाली बात ये है कि रतन टाटा जी ने सोचा था कि वो उस लड़की के बारे में घर पर बात जरूर करेंगे, लेकिन तब किस्मत को शायद कुछ और ही मंजूर था। जी हां रतन टाटा ने बताया कि तब भारत और चीन के बीच लड़ाई चल रही थी। बस इसी युद्ध के कारण उनके माता पिता नहीं चाहते थे कि वह लड़की भारत आएं और यही वजह है कि रतन टाटा का पहला प्यार हमेशा के लिए अधूरा रह गया।

अधूरे प्रेम की कहानी

हालांकि प्यार तो आज भी लोगों को होता है, लेकिन ये 1962 के दौर का प्यार था, जब सच्चे प्यार को भुला पाना काफी मुश्किल होता था।  वैसे भी जिस लड़की से रतन टाटा प्यार करते थे, उस लड़की से उनकी शादी करीब करीब तय हो चुकी थी, तो ऐसे में जब रिश्ता टूट जाएँ तो तकलीफ होना लाजिमी है। फिलहाल तो रतन टाटा के अधूरे प्रेम की कहानी को लोगों ने खूब पसंद किया और खूब शेयर भी किया, लेकिन आपको रतन टाटा जी की ये स्टोरी कैसी लगी, इस बारे में हमें अपनी राय जरूर दीजियेगा।

यह भी पढ़ें : ट्रैफिक सिग्नल पर शुरू हुई थी मुकेश और नीता अम्बानी की लव स्टोरी, मुकेश अम्बानी ने ऐसे किया था प्रपोज

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button